द्वारा

खेत, खलिहान और किसान

किसान के ज्ञान को न तो गंभीरता से लिया जा रहा है और न ही उसमे अनुसन्धान की प्रवित्ति जोड़ी जा रही है | देसी ज्ञान को तबज्जो न मिलने की वजह से किसान भुखमरी और अकाल के कगार पर खड़ा है | जबकि हमारे पूर्वजों में ज्ञान से विचार, विचार से जुगाड़ और जुगाड़ से अबिष्कार का प्रचालन रहा है | आज हर किसान के पास कोई न कोई नुस्खा ज़रूर है लेकिन उसके उस्खे पर रिसर्च की ताक़त उसके पास नहीं है | यही किसानों की बर्बादी की असली वजह है |
हमारे पूर्वजों ने पर्यावरण, जल संरक्षण और वन संरक्षण में भी विशेष योग्यता हासिल की है | अनेक उपायों से वे इनकी हिफाज़त करते थे | जंगलों में रहने वाले आदिवासी प्रसव के दौरान एक विशेष पेड़ की छाल का प्रयोग करते थे | छाल निकलने से पहले उस पेड़ को दाल, चावल का न्योता देते फिर उसकी पूजा करते, बाद में मंत्र पढने के साथ ही कुल्हाड़ी के एक बार में जितनी चाल निकल जाये उतने का ही दावा के तौर पर इस्तेमाल करते | लेकिन आज सरकारों का उद्देश्य जंगल की हिफाज़त करना नहीं बल्कि उसे बेचना है |
खेती से जुड़े फैसले भी एसी कमरों में बैठे लोग करते हैं जिनका खेती किसानी से दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं होता | अगर यही योजनायें किसानो के बीच बरगद के पढ़ के नीचे बैठकर बनाई जाएँ जिसमे पारंपरिक कृषि और स्थनीय तकनीक के साथ ही ग्रामीण स्तर पर चारा पैदा करने और मवेशियों की स्थानीय नस्लें पैदा करने की सार्थक विचार विमर्श कर ठोस पहल की की जाये तो किसान और मजदूर आत्महत्या करने पर मजबूर नहीं होंगे |

Advertisements

7 विचार “खेत, खलिहान और किसान&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s